Sat. Apr 13th, 2024

    भदराज मंदिर | Bhadraj Mandir Dehradoon Mussoorie

    देहरादून उत्तराखंड की राजधानी है यहाँ पर देवी देवताओ के मंदिर है उत्तराखंड देव भूमि इसी लिए कहा जाता है हम देहरादून मैं Bhadraj Mandir के बारे मैं आपको बताते है इस मंदिर मैं जाते समय बहुत ही सुंदर नज़ारा देखने को मिलता है बहुत ही सुंदर पहाड़ भी देखने को मिलते है यहाँ पर मौसम बहुत ही अच्छा रहता है कुदरत का सुंदर नज़ारा देखने को मिलता है यहाँ पर हरियाली ही हरियाली देखने को मिलेगी यहाँ पर रस्ते जाते हुए वहां के आपको बहुत ही सुंदर खेत हरे भरे देखने को मिलेंगे .यहाँ की उचाई से बदल साफ़ नज़र आते है और देखने मैं बहुत ही सुंदर लगता है दिल खुश कर देने वाला कुदरत का नज़ारा देखने को मिलता है .

    Bhadraj Mandir Dehradoon

    कहा जाता है की अगर अपने Bhadraj Mandir के दर्शन कर लिए तो वो बद्रीनाथ के बराबर माना जाता है यह मंदिर बलराम जी का मंदिर है ये मसूरी रेंज के पास आता है यहाँ पर पहुचने के लिए आपको कोटि गाँव से 8 किलोमीटर चलना पड़ता है यह क्लाउड मसूरी से 11 किलोमीटर दूर है और आप विकास नगर से होते हुए कैमटी के रस्ते से जायेगे को आपको बहुत ही सुंदर  नज़ारा देखने को मिलेगा .

    कहानी : यह बलराम जी का मंदिर है जो की श्री कृषण जी के बड़े भाई थे यह मंदिर लगभग 200 साल पुराना मंदिर है भदराज मंदिर का भोग है माखन और ढूध है बलराम जी को भदराज भी कहा जाता है महाभारत के समय बलराम जी यहाँ पर तपस्या के लिए यहाँ आये थे यहाँ पर उन्होंने गोपालन का उदेश दिया और यहाँ पर आज भी गाय के दूध को बेचा नहीं जाता है .गाय यहाँ पर पूजनीय है उसके बाद बलराम जी ने बद्रीनाथ की और चले गए .कहा जाता है यहाँ पर एक नंदू नाम का एक मेहरा था वो एक दिन पेड़ के नीछे खुदाई कर रहा था वहां पर उसको एक मूर्ति मिली फिर उस मैं से आवाज आये की मुझे जहाँ मैं कहूँ मुझे वहां रख देना वो उस मूर्ति को उठा कर चलने लगा जब वो थोडा दूर पर पंहुचा तो मूर्ति बहुत भरी हो गई उसने उसे यही पर रख दिया तब से ये मंदिर यहाँ पर स्थापित है .

    यहाँ पर एक गाँव है मटोगी जहाँ पर जल का स्रोत बहता है जिसे बहुत ही पवित्र माना जाता है वहीँ पर लोग स्नान करके लोग यहाँ पर दर्शन करने आते है . सक्रांत के समय यहाँ पर दूर दूर से लोग आते है यहाँ पर मेला लगता है यहाँ पर गाय का कच्चा दूध चढ़ाया जाता है यहाँ पर मेले मैं कई कलाकार भी आते है यहाँ पर विराट खाई पड़ती है जो की राजा विराट के नाम से है जो की अर्जुन के संबंधी थे जिनकी बेटी का विवाह अभिमन्यू से हुआ था यहाँ पर नीचे यमुना जी भी है .

    यहाँ पर एक पत्थर भी है जिस पर अंग्रजी और कुछ अलग भाषा मैं कुछ लिखा हुआ है कहा जाता है की यहाँ पर एक अंग्रेज अपनी सेना लेकर आया था. उसने दूध माँगा पर लोगो ने बिना पूजा याचना के बिना उसे नहीं दिया.उसको इस बात से गुस्सा आ गया उसने मंदिर मैं तोड़ फोड़ कर दी अगर आप वहां पर देखेंगे तो आपको देखने को मिलेगा की मूर्ति के दोनों हाथ नहीं है मूर्ति खंडित है .ऐसा करने के बाद उसके बच्चो और उसकी मृत्यु हो गई. फिर उसके बाद उस अंग्रेज की पत्नी इस मंदिर छमा याचना के लिए आये थी .ये थी इस मंदिर की कहानी यह देखने के लिए बहुत ही सुंदर जगह है

    निचे दिए लिंक को भी पढ़े -:

    chandrabadni mandir In Uttarakhand | चन्द्रबदनी माता मंदिर

    Sahastradhara In Dehradoon| सहस्त्रधारा

    Lakshman Sidh Temple In Dehradoon | लक्षमण सिद्ध मंदिर

    Dehradoon Zoo Uttarakhand | देहरादून चिड़ियाघर

    Mandu Sidh Temple | Dehradoon|Uttarakhand|मांडू सिद्ध

    Kalu Sidh Temple | Dehradoon | श्री कालू सिद्ध मंदिर

    Shikhar Fall Beautiful | Dehradoon | Uttarakhand| शिखर झरना

    Badrinath Temple | Uttarakhand | बद्रीनाथ मंदिर

    HarKi Pauri Haridwar | Uttarakhand| हरकी पौड़ी हरिद्वार

    Translate »