Sun. May 19th, 2024

    हरिद्वार उत्तराखंड राज्य मैं पड़ता है HarKi Pauri बहुत ही पवित्र और धार्मिक स्थल है जो की हरिद्वार मैं है.यहाँ पर लोग दूर दूर से दर्शन करने आते है. गंगा जी को पवित्र माना जाता है.यहाँ पर रोज़ शाम बहुत ही अद्भुत आरती होती है जो की देखने वाली होती है.इस आरती को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है. यहाँ पर लोग मुंडन आदि चीजो के लिए यहाँ पर आते है यहाँ का सबसे पवित्र घाट बरम्ह घाट है प्राक्रतिक प्रेमियों के लिए हरिद्वार स्वर्ग जैसा है.HarKi Pauri को बहुत ही पवित्र माना जाता है

    रास्ता: हरिद्वार पहुचने के लिए नजदीक हवाई अड्डा देहरादून का जोलीग्रांट है और निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार मैं ही है .यहाँ से आपको हर समय टैक्सी और बस की सुविधा रहती है . HarKi Pauri यहाँ से बहुत ही आसानी से पंहुचा जा सकता है. आप अपने वाहन से भी यहाँ पर पहुच सकते है.

    harki pauri haridwar

    हर बारा वर्ष के बाद यहाँ पर कुम्भ के मेले का आयोजन किया जाता है .जिसे देखने के लिए लाखों मैं भक्त आते है .धरती मैं अगर कहीं पर स्वर्ग है तो वह गंगा जी का द्वार है.गंगा की लहरें देखने में बहुत ही सुंदर लगती है भक्त गंगा नदी में नहाते है और अपने आप को पवित्र समझते है और अपने पापो से मुक्ति पाते है..गंगा नदी का नज़ारा देखने के लायक होता है.

    कथा

    हरी के द्वार मैं हरकी पौड़ी स्तिथ है कहते है भगीरथ ने माता गंगा को प्रशन करने के लिए हिमालय पर्वत पर घोर तपस्या की थी इस तपस्या से प्रशन हुए और मैदान मैं प्रवेश करने लगी मगर गंगा माँ का बहाव इतना तेज था की सृष्टी डूब गयी फिर ब्रम्हा जी के आग्रह करने पर शिव जी ने गंगा जी को अपने जटा मैं धारण कर लिया.

    इतिहास

    पौराणिक कथा के अनुसार यह पवित्र घाट विक्रमआदित्य पहले शताब्दी इसापुर मैं अपने भाई भिथारी की याद मैं बनवाया था. मान्यता है की भिथारी हरिद्वार आया था. उसने पवन गंगा के तटों पर तपस्या की थी. जब उनकी मृत्यु हुई. उनके भाई ने उनके नाम पर यह घाट बनवाया. जो बाद मैं हरी की पौड़ी नाम से लोग इसे जानने लगे.

    माना जाता है की भगवान विष्णु जी ने एक पत्थर पर अपने पग चिन्ह छोड़े है. जो हरकी पौड़ी मैं एक उपरी दिवार पर स्थापित है. जिसे हर समय यहाँ पर पवित्र गंगा जी छूती रहती है.हरिद्वार मैं गंगा जी की पूजा बड़े श्रद्धा से की जाती है. इस लिए भक्त गंगा जी मैं दुबकी लगा कर माँ गंगा को प्रणाम करते है.

    गंगा नदी को बहुत ही पवन माना जाता है यहाँ से लोग गंगा जल को अपने घर मैं लेकर जाते है .यहाँ पर आकर मन को शांति मिलती है और यहाँ की आरती बेहद आकर्षित करती है तो आप भी यहाँ पर दर्शन करने आये. आपके मन् को बहुत सकूँन मिलेगा.

    निचे दिए लिंक को भी पढ़े -:

    chandrabadni mandir In Uttarakhand | चन्द्रबदनी माता मंदिर

    Panch Prayag उत्तराखण्ड देवभूमि यात्रा के बारे मे पढ़े !

    Ranikhet Uttarakhand की सुन्दरता

    Phulon Ki Ghati धरती पर स्वर्ग Valley Of Flowers Uttarakhand

    almora district की सुन्दरता देखे uttarakhand

    Kausani |Switzerland of Uttarakhand |कौसानी उत्तराखंड का

    Mussoorie | Uttarakhand | मसूरी | उत्तराखंड

    Translate »