Fri. Apr 12th, 2024

    देहरादून को उत्तराखण्ड की राजधानी कहते है यहाँ पर घुमने के लिए मंदिर स्थल और कुछ पिकनिक स्थल भी है यहाँ पर लोग देख ने के लिए दूर दूर से आते है विदेशों से भी यहाँ पर लोग घुमने आते है क्यूँ की यह बहुत ही बढ़िया जगह है यहाँ पर मौसम भी अच्छा रहता है यहाँ पर लोग सर्दियों मैं आना पसंद करते है बाकि आप सब घुमने यहाँ पर कभी भी आ सकते है. वैसे मौसम यहाँ अच्छा ही देखने को मिलता है आज हम आपको बताने जा रहे है Manak Sidh मंदिर के बारे मैं आओ जानते है इसके बारे मैं पोराणिक कथा क्या है.

    Manak Sidh

    रास्ता : देहरादून से Manak Sidh मंदिर की दूरी 12-13 किलोमीटर की है और घंटा घर से इसकी दूरी 17 किलोमीटर की है यहाँ पर आने के लिए आपको कैब टैक्सी बुक करके आना पड़ेगा और अगर आपके पास अपना साधन है तो आप आराम से यहाँ पर पहुच सकते है  Manak Sidh मंदिर शिमला बाईपास के कारिवारिक ग्रांट मैं स्तिथ है  बुधि चोंक बोडावाला वाला से इसकी दूरी 2 किलोमीटर की है यहाँ पर जाने का रास्ता बहुत ही बड़े पेड़ो से घिरा हुआ है और देखने मैं बहुत ही सुंदर और शांत लगता है.

    कहानी : Manak Sidh मंदिर का इतिहास त्रित्या युग से शुरू होता है बहुत प्रसिद्ध महाऋषि आत्री और माता अनुसुया थी दोनों त्रिमूर्ति भगवान शिव ब्रम्हा विष्णु के बड़े भक्त थे इस लिए तीनो भगवान उनकी तपस्या से खुश हो कर धरती पर आये थे उन्होंने उनसे वादा किया की वो उनके बच्चे के रूप मैं जन्म लेंगे फिर त्रिदेव उनके गर्भ से जन्म लेते है माता अनुसुया का पुत्र दत्तात्रिया के नाम से प्रसिद्ध हुआ और उनके 84 शिष्य ने उनसे ज्ञान प्राप्त किया था और मानव कल्याण के लिए चले गए  उन मैं से दत्तात्रिया एक शिष्य मानक सिद्ध थे मानक सिद्ध जी ने यहाँ पर भगवान शिव की उपासना की थी फिर उन्हें यहाँ पर भगवान के दर्शन हुए और उन्हें यहाँ पर मानक सिद्ध पीठ के नाम से जाना जाता है .Manak Sidh मैं और भी भगवान जी की मुर्तिया स्थापित है.यहाँ पर बहुत सारे त्रिशूल भी है और धुनि भी है जो की त्रित्ययुग से जलती हुई आ रही है जो की पूरा दिन जलती रही है.

    यहाँ इस मंदिर मैं जो भी मन्नत मांगने आते है जब उनकी मन्नत पूरी हो जाती है तो वो यहाँ पर भंडारे का आयोजन करते है और साल मैं सोमवती अमावास को यहाँ पर बहुत बड़ा भंडार का आयोजित होता है और यहाँ पर उस वक्त लगभग दस हज़ार लोग भोजन करते है यह सारा काम समिति की देख रेख मैं होता है जैसे बाकि लक्ष्मण सिद्ध , कालू सिद्ध मांडू सिद्ध मैं गुड का प्रसाद प्रमुख है वैसे ही मानक सिद्ध मैं भी गुड का प्रसाद प्रमुख है इस मंदिर मै ज्यादातर गुड का ही प्रसाद भोग मैं चढाया जाता है यह बहुत ही सुंदर मंदिर है यहाँ पर आकर मन को शांति मिलती है.

    निचे दिए लिंक को भी पढ़े -:

    chandrabadni mandir In Uttarakhand | चन्द्रबदनी माता मंदिर

    Sidhbali mandir Kotdwar |सिद्धबली मंदिर

    Lakshman Sidh Temple In Dehradoon | लक्षमण सिद्ध मंदिर

    Badrinath Temple | Uttarakhand | बद्रीनाथ मंदिर

    Auli Uttarakhand Heaven | औली धरती पर स्वर्ग

    Nainital | Uttarakhand| नैनीताल

    Translate »