Thu. Apr 11th, 2024

    सिद्धबली मंदिर | Sidhbali Temple In Kotdwar Uttarakhand

    उत्तराखण्ड को देव भूमि कहा जाता है उत्तराखण्ड का मौसम हमेशा देखने लायक ही होता है | आज हम बात करने वाले है कोटद्वार  से 3 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ Sidhbali mandir की जहाँ लोग मंदिर के दर्शन करने आते है और यहाँ का नज़ारा देखने लायक होता है | यहाँ मौसम हमेशा बढ़िया रहता है माना जाता है बजरंगबली हनुमान भगतो की सभी मनोकामना पूरी करते है | दिसम्बर माह के पोह सक्रांत को यहाँ मेला लगता है यहाँ मेला देखने लोग दूर दूर से आते है |

    सिद्धबली नाम इस लिए है क्यूँकि सिद्ध शिव के अवतार है और बलि हनुमान जी के अवतार है इस लिए इस मंदिर को सिद्धबली कहाँ जाता है यहाँ पर आपको दोनों के अंश देखने को मिलेगे | Sidhbali mandir के निकट खोह नदी पर बने पुल से मंदिर का दृश्य और ज्यादा सुंदर दिखता है पहले यह एक छोटा सा मन्दिर था । प्राचीन और शक्ति की महत्वता के कारण श्रद्धालुओं ने मंदिर को भव्यता प्रदान कर दी है।

    रास्ता :   Sidhbali mandir पौड़ी जिला कोटद्वार मैं स्तिथ है यह कोटद्वार से 3 किलोमीटर की दूरी पर है यहं पर आप टैक्सी यह ऑटो से आराम से पहुच सकते है यह शहर के बीचो बीच उचाई पर स्तिथ है यह एक पौराणिक मंदिर है | सिद्धबली मंदिर मैं 150 सीडियां है यहाँ पर दर्शन करने लोग 150 सीढियाँ चढ़ कर जाते है और सिद्धबली जी के दर्शन करते है और प्राथना करते है यहाँ पर भक्त अपने हाथों से ही नारियल तोड़ते हैं

    यहाँ पर सभी धर्मो के लोग मन्नत मांगने आते है और मन्नत पूरी हो जाने पर कुछ न कुछ भगवान को भेट कर जाते है  यहाँ पर कहाँ जाता है की सबकी मनोकामनाए पूरी होती है

    Sidhbali mandir

    कहानी और महत्व

    यहाँ पर गुरु गोरखनाथ और उनके शीशियो ने यहाँ पर लम्बे समय तक तपस्या की और उन्हें हनुमान जी की सिद्धि प्राप्त हुए थी जो की बाद में‘सिद्ध’नाम से प्रसिद्द हुए  फिर उन्होंने इस मंदिर की स्थपना की और  सिद्ध बाबा जी ने यहाँ पर हनुमान जी की एक विशाल प्रीतिमा का निर्माण करवाया था जिस से इसका नाम सिद्धबली मंदिर कहाँ गया

    सिद्धबली मंदिर का जियुनाधार एक अंग्रेज दवारा करवाया गया था जिसको सिद्ध बाबा ने दर्शन दे कर जियुनाधार करने के लिए कहाँ था | वर्त्तमान मैं ये मंदिर भव्य रूप धारण कर चूका है लोग यहाँ पर दर्शन करने दूर दूर से आते हैं यहाँ का दृश्य देखने लायक होता है

    यहाँ पर सभी धर्मो के लोग मनोती मांगने आते हैं मंगलवॉर और रविवार  वाले दिन इस मंदिर मैं अधिक भीड़ रहती है मनोकामना पूरी हों जाने पर श्रद्धालु दक्षिणा तो देते ही है और साथ ही साथ मंदिर परिसर में भंडारा भी आयोजित करते है |

    निचे दिए लिंक को भी पढ़े -:

    Dhari Devi Mandir Uttarakhand | माँ धारी देवी

    Danda Nagarja Mandir In Uttarakhand | डाडा नागराज मंदिर

    Tapkeshwar Temple in Dehradoon | टपकेश्वर महादेव मंदिर |

    Lakshman Sidh Temple In Dehradoon | लक्षमण सिद्ध मंदिर

    Budha Temple Dehradoon | बौद्ध मंदिर

    Bhadraj Mandir Dehadoon Mussoorie भदराज मंदिर

    Translate »