Tue. Jun 18th, 2024

    आओ दोस्तों आज एक बहुत ही बेहतरीन कहानी के बारे में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे भगवान हमारी मदद करते  है बस हम ही उन्हें समझ नहीं पाते है Bhagwan हमारी मदद हर समय जरुर करते है जिसे हमें समझने में देर लग जाती है आओ एक कहानी के माध्यम से समझते है कैसे

    एक बार की बात है एक छोटा सा गाँव था  वो एक नदी के किनारे था वहां पर लोग बहुत ही खुश रहते थे अच्छी तरह से उनकी ज़िन्दगी गुजर रही थी लोग वहां पर हमेशा मंदिर में प्राथना किया करते थे वहां उस मंदिर में एक पंडित रहते थे जिनका Bhagwan के ऊपर बहुत ही विश्वास था वो हमेशा भगवान की भक्ति किया करते थे

    एक बार मानसून के मौसम के दौरान बहुत ही तेज बारिश हुई और नदी में बारिश के कारण पानी बढता गया और पानी इतना ज्यादा बढ गया की नदी के किनारे गाँव में बाड़ आ गई और पूरा गाँव पानी से भर गया सभी इधर उधर भागने लगे और सभी ने अपने घरों को खाली करना शुरू कर दिया और सुरक्षित स्थान पर जाना शुरू कर दिया पानी गाँव में इतना बढ गया था की लोगों के पास अपना घर छोड़ने के इलावा और कोई विकल्प नहीं था

    गाँव का एक आदमी दोड़ता हुआ मंदिर में पंडित के कमरे में गया और उसे कहा की गाँव में बाड़ आ गई है और मंदिर तक पानी पहुचने वाला है सब सुरक्षित जगह पर जा रहे है आप भी साथ में चलो ताकि आपकी जान बच सके लेकिन पंडित ने उस आदमी को कहा की मैं तुम्हारे जैसा नास्तिक नहीं हूँ मुझे अपने भगवान पर पूरा भरोसा है वो मुझे कुछ नहीं होने देंगे वो मुझे बचाने के लिए जरुर आयेगे तुम चले जाओ फिर वो आदमी वहां से चला गया

    Bhagwan कैसे हमें अवसर देते है

    मंदिर में पानी बढता गया और पानी उसकी कमर तक आ गया था पंडित एक टेबल के ऊपर खड़ा हो गया थोड़े देर बाद एक नाव में एक आदमी पंडित को बचाने आया आदमी ने कहा की गाँव के सारे लोग सुरक्षित स्थान पर चले गए है और गाँव वालों ने मुझे बताया है की आप यहाँ पर फसे पड़े है तो में आपको बचाने के लिए आया हूँ तो आप मेरे साथ नाव में चलो लेकिन पंडित जी ने उसे पहले की तरह कारण बता कर जाने से मना कर दिया ये सुन कर नाव वाला आदमी वहां से चला गया

    Bhagwan कैसे हमें अवसर देते है

    मंदिर के अंदर पूरा अपनी भर गया फिर पंडित मंदिर के छत पर जा कर चढ़ गया वो पंडित भगवान से प्रार्थना करने लगा की हे भगवान मुझे बचाओ थोड़ी ही देर बाद एक जहाज पंडित की छत के पास आकर रुका और उसने एक रस्सी निचे की ओर गिराई और पंडित को कहा की तुम रस्सी को पकड़ कर जहाज में आ जाओ और मैं तुम्हे सुरक्षित स्थान पर ले जाऊंगा और तुम्हारी जान बच जाएगी

    Bhagwan कैसे हमें अवसर देते है

    इस बार फिर पंडित ने उसे पहले की तरह कारण बताया और जाने से मना कर दिया और जहाज वाला व्यक्ति और लोगों की मदद के लिए वहां से चला गया और लोगों की मदद के लिए ढूंढने लगा  जब मंदिर लग भग पानी में डूब गया तब पंडित ने अपना सिर आकाश की और किया और भगवान से शिकायत करने लगा की सारी उम्र मैंने आपकी पूजा की आप पर मैंने पूरी ज़िन्दगी विश्वास रखा  लेकिन आप मुझे बचाने नहीं आये

    अचानक भगवान उसके सामने मुस्कुराते हुए दिखाई दिए भगवान ने कहा अरे तुम पागल आदमी हो? में तुम्हारे सामने तीन बार आया में तुम्हारे पास भागता हुआ आया और तुम्हे कहा तुम सुरक्षित स्थान पर चले जाओ फिर में तुम्हारे पास नाव लेकर आया फिर में जहाज लेकर आया तो मेरी क्या गलती है की तुम मुझे पहचान न सके

    पंडित ने उसी समय अपनी गलती को महसूस किया और भगवान से माफ़ी मांगने लगा भगवान ने फिर उसे एक मौका दिया सुरक्षित स्थान पर लेकर जाने के लिए अब की बार पंडित ने उसे स्वीकार कर लिया

    कहानी से शिक्षा

    आप अपने जीवन में जीवन को देखते हैं क्या आप Bhagwan पर विश्वास रखते हो क्या आप भगवान को पहचानते हो  क्या आप उन संकेतों को पहचानते हैं जो आपके लिए भेजे जाते हैं भगवान आपको हर समय अवसर भेजते है कभी कभी अनजाने में भी अवसर आ जाते है लेकिन कुछ बार हम अवसरों को हथियाने में असफल हो जाते हैं हमें उन संकेतो को पहचाना चाहिए और कभी दो तरफ़ा नहीं सोचना चाहिये जो अवसर दिया गया उसका उपयोग करना चाहिए न की दुसरे अवसर आने का इंतजार करना चाहिए Bhagwan हमेशा हमें अवसर देता है वो हम पर निर्भर करता है कि हम उस अवसर को कैसे उपयोग करते है

    निचे दिए लिंक भी पढ़े -:

    Translate »